Connect with us

Hindi News

Allahabad High Court on oxygen crisis in India covid 19 – इलाहाबाद हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी- अस्पतालों को ऑक्सीजन न देना अपराध, ये नरसंहार से कम नहीं

Published

on

Allahabad High Court on oxygen crisis in India covid 19 – इलाहाबाद हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी- अस्पतालों को ऑक्सीजन न देना अपराध, ये नरसंहार से कम नहीं


Allahabad High Court on oxygen crisis in India covid 19 – इलाहाबाद हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी- अस्पतालों को ऑक्सीजन न देना अपराध, ये नरसंहार से कम नहीं

देश में कोरोना के 34 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • जनहित याचिका पर हाईकोर्ट ने की सुनवाई
  • ‘अस्पतालों को ऑक्सीजन न देना अपराध है’
  • कोविड-19 के 34 लाख से ज्यादा एक्टिव केस

लखनऊ:

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर में ऑक्सीजन (Oxygen Shortage) का संकट बरकरार है. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा कि अस्पतालों को ऑक्सीजन न देना एक अपराध है, जो नरसंहार से कम नहीं है. इसके दोषी वे हैं, जो इसकी सप्लाई के लिए जिम्मेदार हैं. हाईकोर्ट ने COVID-19 पर चल रही एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि सरकारी पोर्टल पर अस्पतालों में कोविड के बेड उपलब्ध दिखाए जा रहे हैं, जबकि अस्पतालों को फोन करने पर वे कहते हैं कि बेड नहीं हैं.

यह भी पढ़ें

हाईकोर्ट के कहने पर एक वकील ने अदालत के सामने फोन कर यह जजों को सुनाया भी. अदालत ने कहा कि उन्हें पता चला है कि पंचायत चुनाव की काउंटिंग में कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन हुआ है. अदालत ने इसकी जांच करने के लिए सरकार से पंचायत चुनाव केंद्रों की सीसीटीवी फुटेज मांगी है. अदालत ने कहा कि राज्य चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया था कि पंचायत चुनाव की काउंटिंग में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करवाया जाएगा.

बीमार पत्नी के कहने पर पति कोरोना मरीजों को मुफ्त में बांट रहा ऑक्सीजन सिलेंडर

हाईकोर्ट ने कहा कि उसने पिछली सुनवाई पर चुनाव आयोग से चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारियों की कोविड से हुई मौतों पर जवाब मांगा था लेकिन चुनाव आयोग का जोर इन मौतों की तस्दीक करने के बजाय खबर को गलत साबित करने पर ज्यादा है. अदालत ने जस्टिस वीके श्रीवास्तव की कोरोना से हुई मौत पर जांच बिठा दी है. अदालत ने कहा कि हमें पता चला कि न्यायमूर्ति वीके श्रीवास्तव की लखनऊ के आरएमएल अस्पताल में देखभाल नहीं हुई. हालत बिगड़ने पर उन्हें पीजीआई शिफ्ट किया गया, जहां बाद में उनका निधन हो गया.

मध्‍य प्रदेश : कोरोना महामारी के बीच सतना में ऑक्‍सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी का भंडाफोड, 400 सिलेंडर जब्‍त

अदालत ने सरकार से कहा कि कोविड की दवाएं और ऑक्सीजन वगैरह, जो पुलिस जब्त कर रही है, उन्हें मालखानों में रखने के बजाय फौरन लोगों की मदद के लिए इस्तेमाल किया जाए. हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा है कि क्या इलाहाबाद हाईकोर्ट और उसकी लखनऊ बेंच के वकीलों को कोरोना का टीका लगाने के लिए कोई अलग से इंतजाम किया जा सकता है.

VIDEO: ऑक्सीजन संकट पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र को लगाई फटकार



Source link

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Hindi News

Pm Narendra Modi Chaired High Level Meeting To Review Availability Supply Of Oxygen And Medicines Also Discuss Black Fungus – कोरोना संकटः ऑक्सीजन और दवा को लेकर पीएम मोदी ने की हाई लेवल मीटिंग, ब्लैक फंगस पर भी हुई चर्चा

Published

on

Pm Narendra Modi Chaired High Level Meeting To Review Availability Supply Of Oxygen And Medicines Also Discuss Black Fungus – कोरोना संकटः ऑक्सीजन और दवा को लेकर पीएम मोदी ने की हाई लेवल मीटिंग, ब्लैक फंगस पर भी हुई चर्चा


Pm Narendra Modi Chaired High Level Meeting To Review Availability Supply Of Oxygen And Medicines Also Discuss Black Fungus – कोरोना संकटः ऑक्सीजन और दवा को लेकर पीएम मोदी ने की हाई लेवल मीटिंग, ब्लैक फंगस पर भी हुई चर्चा

ऑक्सीजन और दवा को लेकर पीएम मोदी ने की हाई लेवल मीटिंग।

नई दिल्ली:

कोरोना की दूसरी लहर (Corona Second Wave) से पूरे देश की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है. ऑक्सीजन (Oxygen) और दवाओं की कमी को लेकर रोज लापरवाही के मामले सामने आ रहे हैं. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने कोरोना मरीजों को दी जा रही मेडिकल सुविधाओं की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय बैठक की है. पीएम ने बैठक में ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता और इसकी आपूर्ति की समीक्षा की. बैठक में जानकारी दी गई कि पहली लहर के चरम के मुकाबले अभी दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की सप्लाई 3 गुना से अधिक है. पीएमओ के मुताबिक पीएम को जानकारी दी गई कि सरकार कोविड के प्रबंधन के साथ-साथ म्यूकोर्मोसिस में इस्तेमाल की जा रही दवाओं की आपूर्ति की भी सक्रिय रूप से निगरानी कर रही है.

यह भी पढ़ें

बैठक में प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि राज्य सरकारों को समयबद्ध तरीके से वेंटिलेटर के संचालन के लिए कहा जाये. पीएम ने कहा कि राज्य सरकारें वेंटिलेटर निर्माताओं की मदद से तकनीकी और प्रशिक्षण मुद्दों को हल करने की पहल करें. पीएम की तरफ से ये निर्देश ऐसे वक्त पर आया है जब पंजाब सरकार के मुताबिक प्रधानमंत्री केयर फंड की तरफ से राज्य को सप्लाई किए गए 809 वेंटिलेटर में से 309 नॉन-ऑपरेशनल हैं और 174 नॉन-फंक्शनल हैं.

पीएमओ की तरफ से जारी एक रिलीज के मुताबिक बैठक में पीएम ने देश में ऑक्सीजन की उपलब्धता और आपूर्ति की स्थिति का जायजा लिया. पीएम को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स, ऑक्सीजन सिलेंडरों की खरीद की स्थिति के साथ-साथ देश भर में लगाए जा रहे पीएसए प्लांट्स की स्थिति के बारे में भी बताया गया. बैठक में भारतीय रेल की ऑक्सीजन ट्रेनों और वायुसेना के विमानों द्वारा देश के अलग-अलग हिस्सों में की जा रही ऑक्सीजन की सप्लाई के बारे में भी बताया गया. अभी तक 100 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों की मदद से 9 राज्यों को मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई की जा चुकी है.

पीएमओ के मुताबिक पीएम को जानकारी दी गई कि सरकार कोविड के प्रबंधन के साथ-साथ म्यूकोर्मोसिस में इस्तेमाल की जा रही दवाओं की आपूर्ति की भी सक्रिय रूप से निगरानी कर रही है. मंत्री ने पीएम को अपडेट किया कि वे उत्पादन बढ़ाने और सभी प्रकार की आवश्यक मदद का विस्तार करने के लिए निर्माताओं के साथ नियमित संपर्क में हैं. बैठक में राज्यों को सप्लाई की जा रही दवाओं और पिछले कुछ हफ्तों में रेमेडेसिविर सहित सभी दवाओं के उत्पादन में हुई बढ़ोतरी की भी समीक्षा की गयी.

हॉट टॉपिक : UP में धूल फांक रहे PM CARES Fund के वेंटिलेटर



Source link

Continue Reading

Hindi News

Jharkhand: Ten Cyber Criminals Arrested In Deoghar – झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार

Published

on

Jharkhand: Ten Cyber Criminals Arrested In Deoghar – झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार


Jharkhand: Ten Cyber Criminals Arrested In Deoghar – झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार

झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार

देवघर:

झारखंड में देवघर जिले में बुधवार को विभिन्न गांवों में छापेमारी कर पुलिस ने ग्यारह मोबाइल फोन, सिम कार्ड, नकदी आदि के साथ दस साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इसकी जानकारी दी. देवघर के पुलिस अधीक्षक अश्विनी कुमार सिन्हा ने यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि उन्हें मिली गुप्त सूचना के आधार पर जिले के सारवां थाना और मधुपुर थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों में छापामारी कर कुल दस साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है.

यह भी पढ़ें

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों के पास से पुलिस ने ग्यारह मोबाइल फोन, 18 सिम कार्ड, चार पासबुक, एक लैपटॉप, दस एटीएम, एक दोपहिया वाहन और नगद 8000 रूपया बरामद किया है.

अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों की पहचान चंदन कुमार (19) ग्राम-सरपत्ता, उत्तम कुमार ((19) ग्राम-खेरवा, चुन्नू कुमार (27), शेखर मंडल (20) दोनों ग्राम-गोंदलवारी, बबलू कुमार दास(19), अनिल कुमार दास (21) दोनों भाई, प्रमोद कुमार (19) तीनों ग्राम हेठ सरपत्ता, सभी थाना सारवां, उप्पो कुमार दास (21) ग्राम- भेडवा, थाना मधुपुर, के अलावा मतीन अंसारी (29) और सराफत अंसारी (24), दोनों ग्राम- ढोढरी, थाना-सिमुलतला, जिला- जमुई (बिहार) के रूप में पहचापन की गयी है.

मध्य प्रदेश: मुरैना में 20 से ज्यादा बाइक सवारों ने की फायरिंग



Source link

Continue Reading

Hindi News

Government Slipped In The Covid Crisis : Anupam Kher – छवि बनाने के अलावा जिंदगी में और भी बहुत कुछ है : क्‍या अनुपम खेर ने की केंद्र सरकार की आलोचना?

Published

on

Government Slipped In The Covid Crisis : Anupam Kher – छवि बनाने के अलावा जिंदगी में और भी बहुत कुछ है : क्‍या अनुपम खेर ने की केंद्र सरकार की आलोचना?


नई दिल्ली:

Corona pandemic: नरेंद्र मोदी सरकार की तारीफों के पुल बांधने के लिए जाने जाते रहे एक्‍टर अनुपम खेर (Anupam Kher)ने कोविड-19 संकट पर नियंत्रण के मामले में केंद्र सरकार पर कड़ी टिप्‍पणी की है. केंद्र में बीजेपी नीत सरकार का अब तक मजबूती से बचाव करते हुए आए अनुपम ने कहा कि उन्‍हें लगता है कि कोविड संकट में सरकार ‘फिसल’ गई और इसे जिम्‍मेदार ठहराना महत्‍वपूर्ण है. NDTV को दिए एक इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा, ‘कहीं न कहीं वे लड़खड़ा गए..यह समय उनके लिए इस बात को समझने का है कि छवि बनाने के अलावा भी जीवन में और भी बहुत कुछ है. ‘

यह भी पढ़ें

अनुपम से पूछा गया कि क्‍या सरकार के प्रयास अपनी छवि बनाने के बजाय राहत उपलब्‍ध कराने पर अधिक केंद्रित होने चाहिए थे और कोविड से प्रभावित परिवार के हॉस्पिटल बेड के लिए गिड़गिड़ाते, शवों को नदी में बहते और मरीजों को संघर्ष करते हुए देखना उन्‍हें कैसा महसूस हुआ? सवाल पर इस बॉलीवुड एक्‍टर ने कहा, ‘मुझे लगता है कि ज्‍यादातर केसों में आलोचना जायज थी और सरकार के लिए यह महत्‍वपूर्ण है कि वह ऐसा काम करे जिसके लिए लोगों ने उसे चुना है. मुझे लगता है कि केवल संवेदनहीन व्‍यक्ति ही ऐसे हालातों से अप्रभावित होगा.. बहते हुए शव लेकिन दूसरी राजनीतिक पार्टी के लिए इसे फायदे के लिए इस्‍तेमाल करना भी ठीक नहीं है.’

उन्‍होंने कहा, ‘नागरिक के तौर पर हमें नाराज होना चाहिए..यह जरूरी है कि जो कुछ हुआ, उसके लिए सरकार को जवाबदेह ठहराया जाए.’ 66 वर्षीय  एक्‍टर अनुपम की यह टिप्‍पणी अप्रत्‍याशित ही मानी जा सकती हैं, उनकी पत्‍नी किरण खेर बीजेपी सांसद हैं. गौरतलब है कि कोविड के हालात को नियंत्रित करने में सरकार की कथित नाकामी के बीच दो सप्‍ताह पहले ही अनुपम खेर को इस कमेंट ‘आएगा तो मोदी ही’ के लिए आलोचकों की खरीखोटी सुननी पड़ी थी. गौरतलब है कि कोरोना के दूसरी लहर के कारण देश की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं पर भारी दबाव पड़ा है और बड़े शहरों के ज्‍यादातर अस्‍पताल बेड और ऑक्‍सीजन की कमी का सामना कर रहे हैं. अनुपम उन सेलिब्रिटीज में हैं जिन्‍होंने लोगों को राहत पहुंचाने के लिए प्रयास किए हैं. “Heal India” इनीशिएटिव (पहल) के जरिये वे उन लोगों को मदद पहुंचाने की कोशिश में जुटे हैं जिन्‍होंने वेंटीलेटर और ऑक्‍सीजन concentrators की जरूरत है. 



Source link

Continue Reading

Trending