Connect with us

Hindi News

DRDO To Establish 500 oxygen plant in country within 3 months – देश में तीन माह के भीतर 500 ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाएगा DRDO

Published

on

DRDO To Establish 500 oxygen plant in country within 3 months – देश में तीन माह के भीतर 500 ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाएगा DRDO


DRDO To Establish 500 oxygen plant in country within 3 months – देश में तीन माह के भीतर 500 ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाएगा DRDO

प्रतीकात्‍मक फोटो

नई दिल्ली:

डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन (DRDO) देशभर में तीन महीने के भीतर 500 ऑक्‍सीजन प्लांट लगाने जा रहा है. दिल्ली में एम्स और आरएमएल में लगा प्लांट कल से ऑपेरशनल हो जाएगा. यह एक मिनट में यह 1000  लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन करता है जिसे 200 मरीज को एक साथ दिया जा सकता है. यह तकनीक तेजस एयरक्राफ्ट के लिए बनाई गई थी लेकिन  इंडस्ट्री को यह तकनीक दी गई है. टाटा,एलएंडटी को इसे दिया गया है. देश मे जहां-जहां चाहिए, इसे हर जगह लगाया जा सकता है.

PM केयर्स फंड से एक लाख Portable Oxygen Concentrators खरीदेगी सरकार

डीआरडीओ चीफ सतीश रेड्डी ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय जहां कहेगा,  वहां हम इसे लगाएंगे. छोटे अस्पताल में भी यह लग सकता है. 500 लीटर एक मिनट में ऑक्‍सीजन का उत्‍पादन हो सकता है, 40 लाख से 80 लाख रुपया आता है. डीआरडीओ का अस्पताल आज से शुरू होगा. बनारस में दो-तीन दिन और मध्यप्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड में जल्द शुरू होगी. दिल्ली में अस्पताल 10 दिनों में 500 से 1000 बेड का हो जाएगा. उम्‍मीद है कि दिल्ली का ऑक्‍सीजन संकट 4-5 दिनों के लिये काफी हद तक कम हो जाएगा.

‘रिश्वत लेकर दे रहे बेड’- BJP सांसद तेजस्वी सूर्या के आरोपों से घिरी उनकी ही पार्टी

गौरतलब है कि कोरोना महामारी से मुकाबला करने के लिये डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) के सहयोग से गुजरात के अहमदाबाद में बने 900 बेड का अस्पताल शनिवार से शुरू किया गया है. दमयंती कोविड अस्पताल डीआरडीओ और गुजरात सरकार के सहयोग से बना है. अस्‍पताल में 150 आईसीयू और 750 ऑक्‍सीजन से लैस बेड हैं.



Source link

Hindi News

Dead bodies found in river, Panna district of Madhya Pradesh, villagers frightened – मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में नदी में मिले शव, गांव के लोग भयभीत

Published

on

Dead bodies found in river, Panna district of Madhya Pradesh, villagers frightened – मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में नदी में मिले शव, गांव के लोग भयभीत


Dead bodies found in river, Panna district of Madhya Pradesh, villagers frightened – मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में नदी में मिले शव, गांव के लोग भयभीत

प्रतीकात्मक फोटो.

भोपाल:

उत्तर प्रदेश और बिहार में गंगा नदी में तैरते हुए मिले शवों के बाद अब मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के पन्ना (Panna) जिले में भी इसी तरह का मामला सामने आया है. पन्ना जिले की रूनज नदी में शव (Dead Bodies) मिले हैं.  पन्ना जिले के नंदनपुर गांव के लोग इस घटना से भयभीत हैं. ग्रामीण स्थानीय प्रशासन की मदद की प्रतीक्षा कर रहे हैं. नदी में पड़े शव सड़ चुके हैं. ग्रामीणों को यह शव कोरोना संक्रमित मरीजों के होने की आशंका है. हालांकि कलेक्टर ने कहा है कि केवल दो ग्रामीणों की मृत्यु कैंसर और वृद्धावस्था से हुई है.

यह भी पढ़ें

उल्लेखनीय है कि बिहार के बक्सर में कल शव तैरते हुए मिले थे. बिहार सरकार ने मंगलवार को कहा कि बक्सर जिले में गंगा से अब तक कुल 73 शव निकाले गए हैं जिनके कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के शव होने की आशंका जताते हुए यह संभावना जताई जा रही है कि संभवतः अंतिम संस्कार नहीं करके उन्हें गंगा नदी में प्रवाहित कर दिया गया होगा. बिहार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने मंगलवार को अपने ट्वीट में बक्सर जिले में चौसा गांव के पास इन शवों के गंगा नदी में मिलने की चर्चा करते हुए कहा कि 4-5 दिन पुराने क्षत-विक्षत ये शव पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश से बहकर बिहार आए हैं.

कोरोना काल में गंगा-यमुना नदी में बहते हुए मिले शव, केंद्रीय मंत्री बोले,’मामले को संज्ञान में ले जांच कराएं राज्‍य’

वहीं कई समाचार चैनलों ने दावा किया है कि ये शव उन कोरोना पीड़ितों के हैं जिनके परिवार के सदस्यों द्वारा गरीबी के कारण और संसाधन के अभाव में शव को छोड़ दिया गया या सरकारी कर्मी इस डर से कि वे कहीं स्वयं संक्रमण की चपेट में न आ जाएं, शवों को नदी में फेंक कर फरार हो गए.



Source link

Continue Reading

Hindi News

भारत में क्यों वेंटिलेटर की कमी से मर रहे हैं लोग?

Published

on

भारत में क्यों वेंटिलेटर की कमी से मर रहे हैं लोग?



आंध्र प्रदेश के तिरुपति के रुइया अस्पताल में आक्सीज़न की सप्लाई में बाधा…



Source link

Continue Reading

Hindi News

Centre RSS Push For Positivity To Offset Criticism Over Covid three pronged strategy seems to have been initiated – कोरोना से जंग: वैश्विक आलोचनाओं से उबरने के लिए केंद्र-आरएसएस का मास्टरप्लान

Published

on

Centre RSS Push For Positivity To Offset Criticism Over Covid three pronged strategy seems to have been initiated – कोरोना से जंग: वैश्विक आलोचनाओं से उबरने के लिए केंद्र-आरएसएस का मास्टरप्लान


Centre RSS Push For Positivity To Offset Criticism Over Covid three pronged strategy seems to have been initiated – कोरोना से जंग: वैश्विक आलोचनाओं से उबरने के लिए केंद्र-आरएसएस का मास्टरप्लान

कोरोना से जंग: वैश्विक आलोचनाओं से उबरने के लिए केंद्र-आरएसएस का मास्टरप्लान

नई दिल्ली:

कोरोना की दूसरी लहर (Corona Second Wave) ने देश को हिला कर रख दिया है. महामारी की इस घातक लहर को संभालने में देश ही नहीं दुनिया भर में नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Govt) को आलोचना का सामना करना पड़ा है. सूत्रों ने बताया कि इससे बाहर निकलने के लिए केंद्र सरकार ने सकारात्मकता के लिए एक बड़े ठोस कार्यक्रम की योजना तैयार की है. इस योजना में संभवतः भाजपा (BJP), केंद्र सरकार और यहां तक ​​कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) द्वारा तीन-स्तरीय रणनीति शुरू की गई है. सूत्रों ने कहा कि पिछले सप्ताह केंद्र सरकार के कुछ संयुक्त सचिव रैंक के अधिकारियों को एक कार्यशाला में शामिल किया गया था.



Source link

Continue Reading

Trending