Connect with us

Hindi News

Madhya Predesh : Lawyer didnot get treatment in medical college, died on bike – मध्‍य प्रदेश : बीमार वकील को मेडिकल कॉलेज में समय पर नहीं मिला इलाज, बाइक पर तोड़ा दम

Published

on

Madhya Predesh : Lawyer didnot get treatment in medical college, died on bike – मध्‍य प्रदेश : बीमार वकील को मेडिकल कॉलेज में समय पर नहीं मिला इलाज, बाइक पर तोड़ा दम


Madhya Predesh : Lawyer didnot get treatment in medical college, died on bike – मध्‍य प्रदेश : बीमार वकील को मेडिकल कॉलेज में समय पर नहीं मिला इलाज, बाइक पर तोड़ा दम

समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण वकील की बाइक पर ही मौत हो गई

भोपाल :

मध्यप्रदेश के रतलाम में इलाज के अभाव में एक वकील ने चलती बाइक पर दम तोड़ दिया. इस वकील को उसकी मां और भाई रतलाम के मेडिकल कालेज में ढाई घण्टे तक इलाज के लिए इंतजार करने बाद भी इलाज नहीं किए जाने पर किसी अन्य निजी हॉस्पिटल ले जा रहे थे. रास्ते मे मौत होने पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने एम्बुलेंस से वकील को जिला चिकित्सालय भेजा.

 जानकारी के अनुसार, 40 वर्षीय वकील सुरेश डागर की तबियत खराब होने पर उनके भाई अनिल, मां के साथ बाइक पर लेकर मंगलवार सुबह 10.30 बजे मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे. दो घंटे इंतज़ार के बाद भी उन्हें अंदर नही लिया गया. इसके बाद परिजन, वकील सुरेश को पास के एक निजी अस्पताल लेकर गए लेकिन वहां भी इलाज नहीं मिला.

यह भी पढ़ें

कोरोना महामारी के बीच सतना में ऑक्‍सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी का भंडाफोड, 400 सिलेंडर जब्‍त

 इलाज नहीं मिलने के बाद भाई और मां जब वकील सुरेश डागर को वापस बाइक पर लेकर राम मंदिर क्षेत्र से गुजर रहे थे तभी उनकी अचानक मौत हो गई.कोरोना पोजेटिव  होने की शंका के चलते  वकील की मां और भाई की कोई मदद नहीं कर रहा था. ऐसे में वहां डयूटी दे रहे पुलिसकर्मियों ने तत्काल एम्बुलेंस को बुलाया और अचेत वकील को एम्बुलेंस से जिला चिकित्सालय भेजा, जहां डॉक्‍टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया. वकील कोरोना का सस्पेक्टेड थे. उनके शव का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया. 

कर्फ्यू में घूम रहे लोगों को तहसीलदार ने दी ‘मेंढक कूद’ की सजा, सोशल डिस्‍टेसिंग का नहीं रखा गया ध्‍यान..

जिस समय वकील सुरेश डागर मेडिकल कॉलेज  में गेट नंबर 2 पर  इलाज के लिए प्रतीक्षा कर रहे थे, उसी समय मेडिकल कॉलेज में  60 नए बेड वाले  नए वार्ड के लिए 70 ऑक्सीजन कांसक्ट्रर मशीन देने को चेतन्य कश्यप फाउंडेशन के अध्यक्ष और रतलाम विधायक चेतन्य कश्यप  ओर कलेक्टर गोपाल डाँड़ भी आये हुए थे. मेडिकल कालेज के डीन से लेकर अन्य स्टाफ  विधायक और कलेक्टर के साथ लगा हुआ था. वकील के साथी वकीलों ने अपने दोस्त के इलाज के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल भी करने का प्रयास किया लेकिन न तो मेडिकल कॉलेज ओर न ही अन्य किसी हॉस्पिटल में वकील को इलाज के लिए बेड मिल सका.



Source link

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Hindi News

Tamil Nadu: Corona Patients Attendants Risk Becoming Super Spreaders, Government Strict Instructions – तमिलनाडु में COVID मरीजों के अटेंडेंट बढ़ा रहे हैं कोरोना का खतरा, सरकार ने अस्पतालों को दी सख्त हिदायत

Published

on

Tamil Nadu: Corona Patients Attendants Risk Becoming Super Spreaders, Government Strict Instructions – तमिलनाडु में COVID मरीजों के अटेंडेंट बढ़ा रहे हैं कोरोना का खतरा, सरकार ने अस्पतालों को दी सख्त हिदायत


चेन्नई:

तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग ने रविवार को आदेश दिया है कि कोविड अस्पतालों में मरीज के अटेंडेंट को आइसोलेशन वार्ड में जाने की अनुमति नहीं होगी. तमिलनाडु सरकार का यह आदेश NDTV पर खबर दिखाए जाने के बाद लिय़ा गया, जहां बताया गया था कि किस तरह से मरीज के परिजन बिना रोक टोक के कोविड आइसोलेशन वार्ड में आ जा रहे हैं. अस्पतालों में कोविड प्रोटोकॉल की यह अनदेखी लोगों की जान के लिए खतरनाक साबित हो सकती है. सरकारी अस्पताल इसके लिए डॉक्टरों और नर्सों की कमी का हवाला दे रहे हैं. 

यह भी पढ़ें

पिछले दिनों राजीव गांधी अस्पताल के कोविड ब्लॉक में NDTV की टीम पहुंची थी. वहां जो हालात थे उन पर विश्वास करना आसान नहीं था. लगभग हर कोविड बिस्तर पर मरीज का अटेंडेंट मौजूद थे. कोई अपने मरीज को खुद खाना खिला रहा था तो कोई पंखे से हवा कर रहा था. वहीं कुछ लोग मरीजों के साथ सिर्फ बातचीत करते हुए भी देखे गए थे. कुछ जगह तो मरीज और अटेंडेंट एक ही बिस्तर पर बैठे भी दिखाई  दिए थे. किसी भी मरीज के परिजन ने न तो PPE किट पहनी थी और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते नजर आए. 

nd0png9

अस्पताल के गलियारे में लगी कुर्सियों पर भी कुछ मरीजों के परिजन बिना रोक टोक आराम फरमाते और बाते करते दिखाई दिए. जबकि वहीं एक बोर्ड टंगा था. जिस पर लिखा था कि ‘विजिटर्स आर नॉट अलाउड’. वहां मौजूद गार्ड भी किसी भी परिजन को अंदर जाने से नहीं रोक रहा था. इन परिजनों से जब कोविड नियमों की चर्चा की गई थी तो उन्होंने अस्पताल पर आरोप लगाते हुए इसे अपनी मजबूरी करार दिया. उन्होंने कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन के अलावा किसी भी तरह की मेडिकल मदद नहीं मिलती है. 

तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन ने इस मामले पर NDTV से बताया कि कई बार अस्पतालों को इस बाबत चेतवानी जारी की जा चुकी है. कोविड वार्डों में अटेंडेंटों का जाने देना एक बड़ी गलती है. उन्होंने कहा कि कुछ जगहों पर वास्तविक जरुरतों के आधार पर परिजनों को मरीज के पास जाने की इजाजत दी जाती है लेकिन उसके लिए PPE किट पहनना तथा दूसरे प्रोटोकॉल्स का पालन अनिवार्य होता है. उन्होंने कहा कि अस्पतालों में स्टाफ की कमी के चलते हम और लोगों की जान जोखिम में नहीं डाल सकते हैं. 

 



Source link

Continue Reading

Hindi News

Two Arrested Including Journalist In Manipur Over Social Media Post On Death Of Bjp Leader – मणिपुर BJP अध्यक्ष की मौत पर किया था सोशल मीडिया पोस्ट, पत्रकार समेत दो गिरफ्तार

Published

on

Two Arrested Including Journalist In Manipur Over Social Media Post On Death Of Bjp Leader – मणिपुर BJP अध्यक्ष की मौत पर किया था सोशल मीडिया पोस्ट, पत्रकार समेत दो गिरफ्तार


Two Arrested Including Journalist In Manipur Over Social Media Post On Death Of Bjp Leader – मणिपुर BJP अध्यक्ष की मौत पर किया था सोशल मीडिया पोस्ट, पत्रकार समेत दो गिरफ्तार

पत्रकार वांगखेम को पहले भी उनके सोशल मीडिया पोस्ट के लिए 2 बार गिरफ्तार किया गया था.

इम्फाल:

मणिपुर में एक पत्रकार और एक राजनीतिक कार्यकर्ता को COVID-19 के कारण भाजपा के एक वरिष्ठ नेता की मौत पर विवादास्पद सोशल मीडिया पोस्ट लिखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने पत्रकार किशोरचंद्र वांगखेम और राजनीतिक कार्यकर्ता एरेंड्रो लीचोम्बम को गुरुवार रात उनके घरों से गिरफ्तार किया. राज्य BJP के उपाध्यक्ष उषाम देबन और महासचिव पी प्रेमानंद मीतेई ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी.

यह भी पढ़ें

स्थानीय कोर्ट ने दोनों को 17 मई तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया है. पुलिस शिकायत के अनुसार, दोनों ने प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सैखोम टिकेंद्र सिंह की मौत पर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी पोस्ट की थी. जिसमें उन्होंने कहा था, “गोबर और गोमूत्र काम नहीं करते.” दिवंगत प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सिंह सेवानिवृत्त प्राध्यापक थे. 

gnvcgi2g

राजनीतिक कार्यकर्ता एरेंड्रो लीचोम्बम को गुरुवार रात गिरफ्तार किया गया.

पत्रकार वांगखेम को पहले भी उनके सोशल मीडिया पोस्ट के लिए दो अलग-अलग मामलों में दो बार गिरफ्तार किया गया था. मणिपुर में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत देशद्रोह का आरोप भी लगाया था.

पिछले हफ्ते, वायरस से बचाव के लिए लोगों के एक समूह की गाय के गोबर से अपने शरीर को पोंछने की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से प्रसारित हुईं थीं.

विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे कोई सबूत नहीं है जो बताता हो कि गाय का गोबर वायरस के खिलाफ प्रभावी है. गायों की सुरक्षा और उसकी भलाई भाजपा के मुख्य एजेंडे में से एक है.



Source link

Continue Reading

Hindi News

Israel-Palestine Conflict: Israel Will Continue To Strike In Gaza, Says PM Benjamin Netanyahu – संघर्ष के बीच इजरायली PM नेतन्याहू के तल्ख तेवर, कहा- अभी खत्म नहीं हुआ है ऑपरेशन, ये तब तक चलेगा जब तक…

Published

on

Israel-Palestine Conflict: Israel Will Continue To Strike In Gaza, Says PM Benjamin Netanyahu – संघर्ष के बीच इजरायली PM नेतन्याहू के तल्ख तेवर, कहा- अभी खत्म नहीं हुआ है ऑपरेशन, ये तब तक चलेगा जब तक…


Israel-Palestine Conflict: Israel Will Continue To Strike In Gaza, Says PM Benjamin Netanyahu – संघर्ष के बीच इजरायली PM नेतन्याहू के तल्ख तेवर, कहा- अभी खत्म नहीं हुआ है ऑपरेशन, ये तब तक चलेगा जब तक…

(फाइल फोटो)

यरूशलेम:

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच विवाद (Israel-Palestine conflict) गहराता जा रहा है. इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) ने करीब एक हफ्ते से चले आ रहे संघर्ष के लिए हमास (Hamas) को जिम्मेदार ठहराया है. उनका आरोप है कि हमास ने इजरायल पर रॉकेट दागकर संघर्ष की शुरूआत की. नेतन्याहू ने शनिवार को कहा कि जब तक जरूरी होगा गाजा में हमले जारी रहेंगे और नागरिक को हताहत होने से बचने के लिए इजरायल पूरी कोशिश करेगा. 

 

समाचार एजेंसी रायटर्स के मुताबिक, नेतन्याहू ने एक टीवी स्पीच में कहा, “इस टकराव के लिए जो पक्ष जिम्मेदार है, वो हम नहीं हैं बल्कि हम पर हमला करने वाले हैं.” उन्होंने कहा, “अभी हम ऑपरेशन के बीच हैं, यह खत्म नहीं हुआ है और जब तक जरूरी होगा यह ऑपरेशन चलता रहेगा.”

यह भी पढ़ें

इजरायल के प्रधानमंत्री ने कहा, “हम हमास के विपरीत, लोगों को नुकसान पहुंचने से बचाने के लिए जितना संभव हो कर रहे हैं. हमास जानबूझकर आम लोगों के पीछे छिपकर उनको नुकसान पहुंचाने का इरादा रखता है. हम आंतकवादियों को निशाना बना रहे हैं.”

इजरायल और हमास के बीच चल रही जंग सातवें दिन भी जारी रही. इजरायल ने रविवार तड़के गाजा में हमास के प्रमुख के घर पर बमबारी की तो हमास ने तेल अवीव में रॉकेट दागे. फिलहाल इस संघर्ष पर विराम लगने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि इजरायल की एयर स्ट्राइक में कम से कम चार फिलिस्तीनी नागरिकों की मौत हुई है और कई लोग घायल हुए हैं.



Source link

Continue Reading

Trending