Connect with us

Hindi News

Number of women MLA reduced in Assam and Tamil Nadu Legislative Assembly, Kerala women MLA increased, no change in Bengal – असम-तमिलनाडु विधानसभा में घटी महिलाओं की ताकत पर केरल में बढ़ी, बंगाल में भी नहीं बदली सूरत

Published

on

Number of women MLA reduced in Assam and Tamil Nadu Legislative Assembly, Kerala women MLA increased, no change in Bengal – असम-तमिलनाडु विधानसभा में घटी महिलाओं की ताकत पर केरल में बढ़ी, बंगाल में भी नहीं बदली सूरत


Number of women MLA reduced in Assam and Tamil Nadu Legislative Assembly, Kerala women MLA increased, no change in Bengal – असम-तमिलनाडु विधानसभा में घटी महिलाओं की ताकत पर केरल में बढ़ी, बंगाल में भी नहीं बदली सूरत

Women MLA Assembly Election 2021 : महिला विधायकों की संख्या विधानसभा चुनाव में और घट गई

नई दिल्ली:

Women MLA Assembly Election 2021 :पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव महिलाओं के लिहाज से निऱाशाजनक रहे. महिलाओं के लिए विधानसभा में 33 फीसदी आरक्षण का वादा करने वाले राजनीतिक दल 10 फीसदी महिलाओं को भी विधानसभा में नहीं पहुंचा सके. असम और तमिलनाडु विधानसभा चुनाव (Assam Tamil nadu Legislative Assembly)  में तो महिला विधायकों की संख्या घटकर 5 फीसदी पर आ गई. केरल में महिला विधायकों की संख्या बढ़ी, लेकिन 10 फीसदी तक भी नहीं पहुंच सकी. बंगाल (West Bengal Women MLA) में देश की एकमात्र महिला मुख्यमंत्री होने के बावजूद कोई बदलाव नहीं आया और महिला विधायक की संख्या 2016 के बराबर ही रही. ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) खुद चुनाव हार गईं.

केरल में सबसे छोटी जीत महज 38 वोटों की रही, शैलजा टीचर ने बनाया सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड

असम में घट गईं महिला विधायक—-

असम विधानसभा चुनाव (Assam Legislative Assembly 2021) की 126 सीटों पर 74 महिला उम्मीदवार थीं, इनमें 6 जीती हैं, यह कुल विधायकों का 5 फीसदी से भी कम है. इनमें रेनुपोमा राजखोवा (एजीपी), अजंता नेओग (BJP), सुमन हरिप्रिया (बीजेपी), नंदिता गारलोसा (बीजेपी), सिबामानी बोरा(Congress), नंदिता दास (कांग्रेस) शामिल हैं. जबकि वर्ष 2016 में 91 महिला प्रत्याशियों में से आठ ने जीत दर्ज की थी. वर्ष 2011 के विधानसभा चुनाव में 85 महिलाएं प्रत्याशियों में 14 विधानसभा पहुंचीं थीं.

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस : 5 चुनावी राज्यों में 33% तो छोड़िए 15% महिला विधायक नहीं, जानिए कौन है अव्वल

तमिलनाडु में 20 से 12 रह गईं महिला विधायक—

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव (Tamil nadu Legislative Assembly 2021) में इस बार 12 महिला विधायक जीती हैं, 232 सीटों पर हुए चुनाव के हिसाब से ये महज 5 फीसदी हैं. इन 12 महिला विधायकों में 7 डीएमके, 5 एआईएडीएमके गठबंधन की सदस्य हैं. जबकि वर्ष 2016 में 21 महिलाएं जीती थीं जो कुल सीटों का 09 फीसदी था.  तमिलनाडु में 2011 में 17 महिलाएं जीती थीं. 

2021 विधानसभा चुनाव में तमिलनाडु में नाम तमिलर काची नाम की पार्टी ने 117 महिला प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे थे. जबकि एआईएडीएमके (AIADMK) ने 14 और डीएमके (DMK) ने 12 महिलाओं को टिकट दिया था. कुल मिलाकर 411 महिला उम्मीदवार थीं. जबकि 2016 में 3787 में 323 महिला प्रत्याशी थीं. यानी इस बार महिला प्रत्याशी तो बढ़ीं, लेकिन निर्वाचित विधायकों की संख्या घट गई. 

केरल (kerala)- 11 महिलाएं जीतीं

केरल विधानसभा (Assam Legislative Assembly 2021)  की 140 सीटों में इस बार 11 महिला विधायक निर्वाचित हुई हैं. कुल 103 महिला प्रत्याशी मैदान में थीं. इनमें 10 एलडीएफ और एक यूडीएफ प्रत्याशी शामिल हैं. महिला विधायकों में  केरल की स्वास्थ्य मंत्री शैलजा टीचर (Shailja Teacher) भी हैं, जिन्होंने रिकॉर्ड 60 हजार से ज्यादा वोटों से चुनाव जीता. केरल विधानसभा चुनाव में वर्ष 2016 में 8 महिलाएं जीती थीं. 1996 में केरल में सर्वाधिक 13 विधायक थीं, लेकिन कभी भी यह आंकड़ा कुल विधायकों के 10 फीसदी भी नहीं पहुंचा. 

बंगाल में भी नहीं बदली सूरत—-

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 (Bengal Assembly Election 2021)में भी महिलाओं की तादाद पिछली बार की तरह 40 पर ही अटक गई है. जबकि तृणमूल कांग्रेस ने 50 महिला प्रत्याशियों को मैदान में उतारा था. खुद बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी चुनाव हार गईं. 40 महिला विधायकों में 33 टीएमसी और सात बीजेपी से चुनी गई हैं. वर्ष 2016 में 29 टीएमसी, कांग्रेस 4, लेफ्ट 6 और जीजेएम से एक महिला विधायक जीती थी.

पुडुचेरी में सिर्फ एक महिला विधायक—

पुदुच्चेरी विधानसभा चुनाव (Puducherry Assembly Election 2021) में इस बार सिर्फ एक महिला विधायक जीती है, जबकि वहां कुल 30 सीटें हैं. नेदुनगडु सीट से चंदिरा प्रियंका ने ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस (AINRC) के टिकट पर निर्वाचित हुई हैं. जबकि पिछले चुनाव में यहां 4 महिलाएं विधानसभा तक पहुंची थीं. वर्ष 2016 के चुनाव में 20 साल का सूखा खत्म करते हुए चार महिलाओं ने विधानसभा चुनाव जीता थी. इससे पहले आखिरी बार 1996 में एआईएडीएमके (AIDMK) की एस अरासी विधायक थीं.



Source link

Hindi News

Jharkhand: Ten Cyber Criminals Arrested In Deoghar – झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार

Published

on

Jharkhand: Ten Cyber Criminals Arrested In Deoghar – झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार


Jharkhand: Ten Cyber Criminals Arrested In Deoghar – झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार

झारखंडः देवघर में दस साइबर अपराधी गिरफ्तार

देवघर:

झारखंड में देवघर जिले में बुधवार को विभिन्न गांवों में छापेमारी कर पुलिस ने ग्यारह मोबाइल फोन, सिम कार्ड, नकदी आदि के साथ दस साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इसकी जानकारी दी. देवघर के पुलिस अधीक्षक अश्विनी कुमार सिन्हा ने यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि उन्हें मिली गुप्त सूचना के आधार पर जिले के सारवां थाना और मधुपुर थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों में छापामारी कर कुल दस साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है.

यह भी पढ़ें

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों के पास से पुलिस ने ग्यारह मोबाइल फोन, 18 सिम कार्ड, चार पासबुक, एक लैपटॉप, दस एटीएम, एक दोपहिया वाहन और नगद 8000 रूपया बरामद किया है.

अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों की पहचान चंदन कुमार (19) ग्राम-सरपत्ता, उत्तम कुमार ((19) ग्राम-खेरवा, चुन्नू कुमार (27), शेखर मंडल (20) दोनों ग्राम-गोंदलवारी, बबलू कुमार दास(19), अनिल कुमार दास (21) दोनों भाई, प्रमोद कुमार (19) तीनों ग्राम हेठ सरपत्ता, सभी थाना सारवां, उप्पो कुमार दास (21) ग्राम- भेडवा, थाना मधुपुर, के अलावा मतीन अंसारी (29) और सराफत अंसारी (24), दोनों ग्राम- ढोढरी, थाना-सिमुलतला, जिला- जमुई (बिहार) के रूप में पहचापन की गयी है.

मध्य प्रदेश: मुरैना में 20 से ज्यादा बाइक सवारों ने की फायरिंग



Source link

Continue Reading

Hindi News

Government Slipped In The Covid Crisis : Anupam Kher – छवि बनाने के अलावा जिंदगी में और भी बहुत कुछ है : क्‍या अनुपम खेर ने की केंद्र सरकार की आलोचना?

Published

on

Government Slipped In The Covid Crisis : Anupam Kher – छवि बनाने के अलावा जिंदगी में और भी बहुत कुछ है : क्‍या अनुपम खेर ने की केंद्र सरकार की आलोचना?


नई दिल्ली:

Corona pandemic: नरेंद्र मोदी सरकार की तारीफों के पुल बांधने के लिए जाने जाते रहे एक्‍टर अनुपम खेर (Anupam Kher)ने कोविड-19 संकट पर नियंत्रण के मामले में केंद्र सरकार पर कड़ी टिप्‍पणी की है. केंद्र में बीजेपी नीत सरकार का अब तक मजबूती से बचाव करते हुए आए अनुपम ने कहा कि उन्‍हें लगता है कि कोविड संकट में सरकार ‘फिसल’ गई और इसे जिम्‍मेदार ठहराना महत्‍वपूर्ण है. NDTV को दिए एक इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा, ‘कहीं न कहीं वे लड़खड़ा गए..यह समय उनके लिए इस बात को समझने का है कि छवि बनाने के अलावा भी जीवन में और भी बहुत कुछ है. ‘

यह भी पढ़ें

अनुपम से पूछा गया कि क्‍या सरकार के प्रयास अपनी छवि बनाने के बजाय राहत उपलब्‍ध कराने पर अधिक केंद्रित होने चाहिए थे और कोविड से प्रभावित परिवार के हॉस्पिटल बेड के लिए गिड़गिड़ाते, शवों को नदी में बहते और मरीजों को संघर्ष करते हुए देखना उन्‍हें कैसा महसूस हुआ? सवाल पर इस बॉलीवुड एक्‍टर ने कहा, ‘मुझे लगता है कि ज्‍यादातर केसों में आलोचना जायज थी और सरकार के लिए यह महत्‍वपूर्ण है कि वह ऐसा काम करे जिसके लिए लोगों ने उसे चुना है. मुझे लगता है कि केवल संवेदनहीन व्‍यक्ति ही ऐसे हालातों से अप्रभावित होगा.. बहते हुए शव लेकिन दूसरी राजनीतिक पार्टी के लिए इसे फायदे के लिए इस्‍तेमाल करना भी ठीक नहीं है.’

उन्‍होंने कहा, ‘नागरिक के तौर पर हमें नाराज होना चाहिए..यह जरूरी है कि जो कुछ हुआ, उसके लिए सरकार को जवाबदेह ठहराया जाए.’ 66 वर्षीय  एक्‍टर अनुपम की यह टिप्‍पणी अप्रत्‍याशित ही मानी जा सकती हैं, उनकी पत्‍नी किरण खेर बीजेपी सांसद हैं. गौरतलब है कि कोविड के हालात को नियंत्रित करने में सरकार की कथित नाकामी के बीच दो सप्‍ताह पहले ही अनुपम खेर को इस कमेंट ‘आएगा तो मोदी ही’ के लिए आलोचकों की खरीखोटी सुननी पड़ी थी. गौरतलब है कि कोरोना के दूसरी लहर के कारण देश की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं पर भारी दबाव पड़ा है और बड़े शहरों के ज्‍यादातर अस्‍पताल बेड और ऑक्‍सीजन की कमी का सामना कर रहे हैं. अनुपम उन सेलिब्रिटीज में हैं जिन्‍होंने लोगों को राहत पहुंचाने के लिए प्रयास किए हैं. “Heal India” इनीशिएटिव (पहल) के जरिये वे उन लोगों को मदद पहुंचाने की कोशिश में जुटे हैं जिन्‍होंने वेंटीलेटर और ऑक्‍सीजन concentrators की जरूरत है. 



Source link

Continue Reading

Hindi News

46,781 New Cases And 816 COVID-19 Deaths Reported In Maharashtra In Last 24 Hours – महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 46 हजार से ज्यादा नए मामले, पॉजिटिविटी दर 17.36 हुई

Published

on

46,781 New Cases And 816 COVID-19 Deaths Reported In Maharashtra In Last 24 Hours – महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 46 हजार से ज्यादा नए मामले, पॉजिटिविटी दर 17.36 हुई


46,781 New Cases And 816 COVID-19 Deaths Reported In Maharashtra In Last 24 Hours – महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 46 हजार से ज्यादा नए मामले, पॉजिटिविटी दर 17.36 हुई

मुंबई:

महाराष्ट्र में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 46,781 मामले सामने आए. इसके साथ ही राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 52,26,710 हो गई है. एक दिन पहले मंगलवार को राज्य में 40,956 नए मरीज मिले थे. वहीं पिछले 24 घंटे में 816 मरीजों की जान इस वायरस की वजह से चली गई जिसके साथ ही राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 78007 हो गई. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी.

यह भी पढ़ें

मंगलवार को राज्य में 40,956 नए मामले सामने आए थे और 793 मौतें दर्ज की गई थीं. वहीं 71,966 लोग ठीक भी हुए थे. पिछले 24 घंटे में दर्ज 816 मौतों में से 387 पिछले 48 घंटे के अंदर हुईं, 193 पिछले हफ्ते और बाकी उससे भी पहले, लेकिन उन्हें दर्ज बुधवार को किया गया.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Continue Reading

Trending