Connect with us

Hindi News

Prime Minister Narendra Modi Appreciates health workers and nurses for reducing vaccine wastage – PM मोदी ने वैक्सीन की बर्बादी को कम करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की तारीफ की, कहा- कोविड से लड़ाई में ये जरूरी

Published

on

Prime Minister Narendra Modi Appreciates health workers and nurses for reducing vaccine wastage – PM मोदी ने वैक्सीन की बर्बादी को कम करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की तारीफ की, कहा- कोविड से लड़ाई में ये जरूरी


Prime Minister Narendra Modi Appreciates health workers and nurses for reducing vaccine wastage – PM मोदी ने वैक्सीन की बर्बादी को कम करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की तारीफ की, कहा- कोविड से लड़ाई में ये जरूरी

PM मोदी ने वैक्सीन की बर्बादी को कम करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की तारीफ की है.

नई दिल्ली:

कोरोनावायरस की दूसरी लहर में देशभर में हालात काफी गंभीर हैं. कोरोनावायरस के प्रकोप से बचने के लिए वैक्सीन लगवाना जरूरी हो गया है. कोरोना संकट के बीच जहां एक ओर वैक्सीन की कमी देखी गई, तो वहीं दूसरी ओर वैक्सीन बर्बाद होने के भी कई मामले सामने आए हैं, जिसके बाद वैक्सीन को लेकर स्वास्थ्य कर्मी सतर्क हो गए हैं और यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि वैक्सीन बर्बाद ना हो पाए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अब स्वास्थ्य कर्मियों की इस बात की तारीफ की है. 

यह भी पढ़ें

पीएम मोदी ने वैक्सीन पर केरल के मुख्यमंत्री  पिनाराई विजयन के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, “यह देखना काफी अच्छा है कि हमारे स्वास्थ्य कर्मियों और नर्सों ने वैक्सीन की बर्बादी को कम करने में एक उदाहरण सेट किया है.”

पीएम मोदी ने आगे लिखा, “कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने के लिए वैक्सीन की बर्बादी को कम करना महत्वपूर्ण है.”

बता दें कि केरल के मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर बताया था, “केरल को GoI से वैक्सीन की 73,38,806 खुराक मिली है. हमने 74,26,164 खुराक प्रदान की हैं, यहां तक कि प्रत्येक शीशी में बेकार पड़ी अतिरिक्त खुराक का उपयोग कर रहे हैं. हमारे स्वास्थ्य कर्मी, विशेष रूप से नर्स काफी प्रभावशाली रहे हैं और हमारी सराहना पाने के योग्य हैं.”





Source link

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Hindi News

bihar darbhanga hospital new ventilator machines stocked up unused in lack of installation and manpower – बिहार : अस्पतालों में शोपीस बनीं वेंटिलेटर मशीनें, कोरोना मरीजों का मजाक उड़ा रहीं मेडिकल सुविधाएं

Published

on

bihar darbhanga hospital new ventilator machines stocked up unused in lack of installation and manpower – बिहार : अस्पतालों में शोपीस बनीं वेंटिलेटर मशीनें, कोरोना मरीजों का मजाक उड़ा रहीं मेडिकल सुविधाएं


bihar darbhanga hospital new ventilator machines stocked up unused in lack of installation and manpower – बिहार : अस्पतालों में शोपीस बनीं वेंटिलेटर मशीनें, कोरोना मरीजों का मजाक उड़ा रहीं मेडिकल सुविधाएं

Darbhanga Covid-19 : दरभंगा के अस्पताल में पड़ी हुई हैं वेंटिलेटर मशीनें.

दरभंगा:

देशभर में कोरोना ने कोहराम मचा रखी है, बिहार भी इससे अछूता नहीं है. सरकार लगातार कोरोना महामारी से लड़ाई के लिए स्वास्थ्य विभाग को चुस्त-दुरुस्त होने का दावा भी करती है लेकिन जमीनी स्तर पर अस्पताल की हकीकत कुछ और ही बया करती है. दरभंगा के अनुमंडल अस्पताल में नई चार वेंटिलेटर मशीनें जंग खा रही हैं. ये मशीनें पिछले साल अस्पताल को मिली थीं, लेकिन कोरोना काल में भी सक्रियता नही दिख रही.

यह भी पढ़ें

फालतू पड़ी हुई हैं वेंटिलेटर मशीनें

दरभंगा के बेनीपुर अनुमंडल अस्पताल में कहने को तो कोरोना बीमारी से लड़ने की पूरी तैयारी है लेकिन एक हकीकत यह भी है कि 2020 में जो चार नए वेंटिलेटर अस्पताल को स्वास्थ्य विभाग ने मुहैया कराए थे, उसे कई महीने बीत जाने के बाद भी आज तक इंस्टॉल तक नही किया गया. अस्पताल में नया वेंटिलेटर न सिर्फ शोभा की वस्तु बना है बल्कि मशीन में अब जंग भी लगने लगी है. एक तरफ कोरोना संक्रमण मरीज के जीवन पर एक एक सांस भारी पर रहा है जीवन रक्षक वेंटिलेटर नही मिलने के कारण कई मरीजों की मौत हो रही है लेकिन यहां तो जीवन देने वाली मशीन की ही मौत होती दिखाई दे रही है. ऐसा नहीं है कि इस मशीन की यहां जरूरत नहीं है, जरूरत तो है लेकिन संसाधन और मैनपावर की कमी के साथ-साथ दृढ़इच्छा शक्ति की कमी के कारण लाखों की मशीनें बर्बाद हो रही हैं.

खुद अनुमंडल अस्पताल के चिकित्सा प्रभारी की मानें तो यहां न तो ICU है, न ही इसे चलाने और देख-रेख करने की कोई व्यवस्था है, यही वजह है कि वेंटिलेटर अब तक इंस्टॉल नहीं किया जा सका है. हालांकि, वो खुद भी मानते हैं कि कोरोना काल मे वेंटिलेटर जीवन रक्षक मशीन है लेकिन वे आखिर करें भी तो क्या?

गांवों की तरफ रुख करता खतरनाक कोरोना वायरस, UP और बिहार की नदियों में दिखे शव, 10 बातें

आखिर कहीं और क्यों नहीं भेज देते?

अब सवाल यह है कि आखिर जब अस्पताल में इतनी कमी है तो इसे समय रहते दूर क्यों नही किया गया और सबसे अहम बात अगर मशीन का यहां तत्काल कोई काम नही तो इसे जहां जरूरी है, वहां क्यों नही भेज दिया जाए ताकि कहीं और किसी की कोरोना से तत्काल जान तो बचाई जा सके.

वहीं इलाके के जागरूक लोग ओर समाजसेवी ने इसे सरकार के साथ-साथ अस्पताल प्रशासन की लापरवाही मान आक्रोशित दिखाई दे रहे हैं. उनकी मानें तो सरकार, प्रशासन और जनप्रतिनिधि ऐसे महामारी में भी इस तरह लापरवाह रहेंगे तो भला आम लोगों का क्या होगा इसका सिर्फ अंदाज ही लगाया जा सकता है.



Source link

Continue Reading

Hindi News

Green Snake Entangled Around The Handle Of The Motorbike Biker Shocked See Horrifying Video

Published

on

Green Snake Entangled Around The Handle Of The Motorbike Biker Shocked See Horrifying Video


Green Snake Entangled Around The Handle Of The Motorbike Biker Shocked See Horrifying Video

चलती बाइक से लिपट गया खतरनाक सांप, देखकर चीख पड़ी महिला और फिर… देखें Video

सोशल मीडिया (Social Media) पर एक हरे रंग के सांप (Green Snake) का वीडियो तेजी से वायरल (Viral Video) हो रहा है, जिसको देखकर आप भी शॉक्ड हो जाएंगे. चलती बाइक पर एक हरे रंग का सांप हैंडल से आकर लिपट (Snake Entangled Around The Handle Of The Motorbike) गया. बाइक चला रही महिला देखकर हैरान रह गई और चीखने लगी. रात को बाइक चला रही महिला इस बात से अनजान थी कि उसके साथ एक सांप भी सफर कर रहा है.

यह भी पढ़ें

जैसे ही वो हैंडल पर आकर लिपटा, तो वो एक हाथ से बाइक चलाने लगी. जैसे-तैसे रोककर वो कैमरे पर वीडियो रिकॉर्डिंग करने लगी. यह घटना 3 मई को थाईलैंड के उथाई थानी में हुई. यूट्यूब पर इस वीडियो को शेयर किया गया है. साथ ही कैप्शन में लिखा गया, ‘पता नहीं कहां से सांप आ गया.’

साइड स्टैंड लगाने के बाद सांप रुचि खोता हुआ दिखाई देता है और जाने की कोशिश करने लगता है. वीडियो को 1,200 से अधिक बार देखा गया है और इसे 7 मई को साझा किया गया था. 

देखें Video:

ऐसा पहली बार नहीं है कि जब सांप बाइक पर आकर बैठ गया हो, 2017 में ऐसी ही घटना हुई थी, जब बाइक चलाकर को अचानक अपनी गाड़ी को रोकना पड़ा था. एक शख्स थाईलैंड के उत्तरी लम्पसांग क्षेत्र में एक पहाड़ी क्षेत्र से होकर गुजर रहा था. तभी 2 मीटर लंबा सांप बाइक पर आ गया. जान बचाने के लिए बाइकर ने गाड़ी को पैर से रोका था. 

थाईलैंड में सांपों का आमना-सामना होना सामान्य है. देश में 200 से अधिक सांप प्रजातियों के साथ एक समृद्ध वन्यजीव है. इन सांपों की प्रजातियों में से लगभग तीन दर्जन को विषैला माना जाता है. अक्सर रिपोर्टों में कहा गया है कि थाई फायर और वन्यजीव विभागों ने सांपों को बचाया है जो बाथरूमों में दुबके हुए हैं और घरों के पास खुले स्थानों में घूम रहे हैं.

विशेषज्ञों का कहना है कि मानव बस्ती में सांपों का प्रवेश लोगों के प्राकृतिक आवास में अतिक्रमण करने का परिणाम है. कई ट्विटर उपयोगकर्ताओं ने थाईलैंड की अपनी यात्रा के दौरान सांप का सामना करने के अपने अनुभवों को साझा किया है.

थाईलैंड में बिजली की लाइनों में उलझ रहे एक अजगर के इस वीडियो को देखें…

थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक, चाओ फ्राया नदी के तट पर स्थित है, जो एक सांप और अन्य सरीसृपों के लिए उपजाऊ प्रजनन आधार प्रदान करने वाला एक रसीला दलदली भूमि थी. शहर के हवाई अड्डे, सुवर्णभूमि को भी ‘कोबरा दलदल’ के रूप में जाना जाता है.





Source link

Continue Reading

Hindi News

DU Recruitment 2021 41 assistant professor posts on offer, check details

Published

on

DU Recruitment 2021 41 assistant professor posts on offer, check details


DU Recruitment 2021 41 assistant professor posts on offer, check details

DU Recruitment 2021: यहां निकली असिस्टेंट प्रोफेसर के 41 पदों पर भर्ती

नई दिल्ली:

DU Recruitment: दिल्ली विश्वविद्यालय के आचार्य नंद देव कॉलेज ने 7वें केंद्रीय वेतन आयोग मैट्रिक्स के शैक्षणिक वेतन स्तर 10 पर कॉलेज के विभिन्न विभागों में स्थायी आधार पर सहायक प्रोफेसर के पद पर नियुक्ति के लिए पात्र उम्मीदवारों से आवेदन आमंत्रित किए हैं.

यह भी पढ़ें

UGC / DU मानदंडों के अनुसार 57,700 से अधिक अन्य भत्ते. इच्छुक और पात्र उम्मीदवार colrec.du.ac.in पर उपलब्ध निर्धारित आवेदन में आवेदन कर सकते हैं.

बता दें, इस भर्ती का विज्ञापन 8-14 मई के रोजगार समाचार में प्रकाशित किया गया है. विज्ञापन में 8 मई की तारीख है और पदों के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि रोजगार समाचार पत्र या कॉलेज की वेबसाइट में विज्ञापन के प्रकाशन की तारीख से चार सप्ताह बाद की है. असिस्टेंट प्रोफेसर के 41 पदों को भरने के लिए यह भर्ती अभियान चलाया जा रहा है.

यहां जानें- पदों के बारे में

बायोमेडिकल साइंस पद – 4  पद

बॉटनी -5  पद

केमिस्ट्री- 2  पद

कॉमर्स -5  पद

कंप्यूटर साइंस-5  पद

इलेक्ट्रॉनिक्स – 1  पद

मैथेमेटिक्स-5  पद

फिजिक्स -9  पद

ज्योलॉजी – 5  पद

नोट: विवरण के लिए, उम्मीदवारों को कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट andcollege.du.ac.in पर चेक करने की सलाह दी जाती है.



Source link

Continue Reading

Trending